Home » Revised Exam Pattern for 68th BPSC Prelims and Mains

Revised Exam Pattern for 68th BPSC Prelims and Mains

BPSC (Bihar Public Service Commission) has revised the exam pattern of preliminary and main examination of 68th Combined (Preliminary) Competitive Examination.

Major changes in the revised exam pattern of 68th BPSC Prelims and Mains

  1. बिहार लोक सेवा आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा में गलत उत्तर के लिए नकारात्मक अंकन (Negative Marking) लागू करने का निर्णय लिया है।
  2. मुख्य (लिखित) परीक्षा में वैकल्पिक विषय के Scaling/Normalisation की समस्या के समाधान हेतु आलोक में आयोग द्वारा संयुक्त मुख्य (लिखित) प्रतियोगिता परीक्षा की संरचना में संशोधन किया गया है।
    • बीपीएससी 68वीं मुख्य परीक्षा में कुल 5 पेपर होंगे, जिसमें निबन्ध का पेपर एक नया अतिरिक्त होगा।
    • वैकल्पिक विषय MCQ आधारित होगा।
    • सामान्य हिन्दी विषय के साथ वैकल्पिक विषय 100 अंकों का होगा और निर्धारित न्यूनतम अर्हतांक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।
    • सामान्य अध्ययन – 1, सामान्य अध्ययन ॥ तथा निबन्ध में प्राप्त अंकों के आधार पर ही मुख्य परीक्षा की मेधा सूची तैयार की जायेगी।

Major changes in the revised exam pattern of 68th BPSC Prelims

बीपीएससी नोटिस के अनुसार,

68वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा के लिए प्रकाशित विज्ञापन के कंडिका 8 (I) (ii) में अंकित है कि “प्रारंभिक परीक्षा में गलत उत्तर के लिए नकारात्मक अंकन (Negative Marking) लागू किया जायेगा।

तदनुसार आयोग द्वारा सर्वाधिक अभ्यर्थियों से प्राप्त मंतव्य “Negative marking should be uniformly on all the 150 questions. In this case, there will be 1 mark for correct answer and 1/4 for wrong answer.” के आलोक में उक्त प्रावधान लागू करने का निर्णय लिया गया है।

जिसकी प्रक्रिया निम्न प्रकार होगी:

  1. प्रत्येक प्रश्न जिसके लिए अभ्यर्थी द्वारा गलत उत्तर अंकित किया गया है. एक चौथाई (or 0.25) अंक दंड स्वरूप घटाया जायेगा।
  2. यदि अभ्यर्थी द्वारा एक प्रश्न के लिए एक से अधिक उत्तर दिये जाते हैं तो उसे भी गलत उत्तर मानते हुए एक चौथाई (or 0.25) अंक दंड स्वरूप घटाया जायेगा।
  3. अभ्यर्थी द्वारा किसी प्रश्न के लिए कोई उत्तर अंकित नहीं करते हुए खाली छोड़ने की स्थिति में अंक घटाने का दण्ड देय नहीं होगा।

Major changes in the revised exam pattern of 68th BPSC Mains

बीपीएससी नोटिस के अनुसार,

कंडिका  8 (II) मुख्य (लिखित) परीक्षा में वैकल्पिक विषय के Scaling / Normalisation की समस्या के समाधान हेतु अभ्यर्थियों द्वारा दिये गये मंतव्य के आलोक में आयोग द्वारा संयुक्त मुख्य (लिखित) प्रतियोगिता परीक्षा की संरचना में संशोधन किया गया है।

संशोधित परीक्षा की संरचना निम्न प्रकार है:
विषय कोड विषयपरीक्षा की अवधिपूर्णांक
01सामान्य हिन्दी03 घंटे100 अंक
02सामान्य अध्ययन, पत्र-।03 घंटे300 अंक
03सामान्य अध्ययन, पत्र ॥03 घंटे300 अंक
38निबन्ध03 घंटे300 अंक
04 से 37 तक वैकल्पिक विषय (MCQ आधारित)03 घंटे100 अंक
  1. सामान्य हिन्दी में 30 प्रतिशत प्राप्तांक प्राप्त करना अनिवार्य होगा, किन्तु मेधा निर्धारण के प्रयोजनार्थ इसकी गणना नहीं की जायेगी।
  2. इसी प्रकार वैकल्पिक विषय में राज्य सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम प्राप्तांक प्राप्त करना अनिवार्य होगा परन्तु मेघा निर्धारण के प्रयोजनार्थ इसकी गणना नहीं की जायेगी।
  3. ध्यातव्य रहे कि प्रत्येक अभ्यर्थी को वैकल्पिक विषयों की सूची में से मात्र एक वैकल्पिक विषय का चयन करना होगा।
  4. सम्प्रति उक्त वैकल्पिक विषय में कार्मिक एवम् प्रशासनिक सुधार विभाग, बिहार के संकल्प संख्या 2374, दिनांक 16.07.2007 एवं सामान्य प्रशासन विभाग, बिहार के संकल्प ज्ञापांक – 962, दिनांक 22.01.2021 के द्वारा सामान्य वर्ग के लिए 40% पिछड़ा वर्ग के लिए 36.5%, अत्यन्त पिछड़ा वर्ग के लिए 34% एवं अनुसूचित जाति / जनजाति, महिलाओं तथा दिव्यांग उम्मीदवारों के लिए 32% निर्धारित न्यूनतम अर्हतांक प्राप्त करना अनिवार्य होगा, किन्तु मेधा निर्धारण के प्रयोजनार्थ इसकी गणना नहीं की जायेगी।
  5. इस प्रकार सामान्य अध्ययन – 1, सामान्य अध्ययन ॥ तथा निबन्ध में प्राप्त अंकों के आधार पर ही मुख्य परीक्षा की मेधा सूची तैयार की जायेगी।

Note: For More Information, Please Visit Official Website: bpsc.bih.nic.in

Also Read:

English English Hindi Hindi